भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनने जा रहा है

भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनने जा रहा है
भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनने जा रहा है

भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनने जा रहा है

घने जंगलों के बीच से गुजरने वाले वाहन भारत के उत्तराखंड में देश का ही नहीं, पूरे एशिया का सबसे लंबा वन कॉरिडोर बनने जा रहा है। इस कॉरिडोर के बनने से दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे पर चलने वालों को जंगल सफारी महसूस होगी। नीचे खबर में इस सड़क परियोजना के बारे में अधिक जानकारी मिलेगी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

 

देश में रोड कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए लगातार नए राजमार्ग बनाए जा रहे हैं। इस श्रृंखला में भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनाया जाएगा। यह दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे पर बनाया जा रहा है।

खास बात यह है कि इस वन्यजीव पार्क के ऊपर वाहन चलेंगे और नीचे जंगली जानवरों की आवाजाही होगी। मजेदार बात यह है कि दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे पर चलने पर आपको जंगल सफारी का भी अनुभव मिलेगा।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के अधिकारियों ने कहा कि उत्तराखंड में यह वाइल्ड लाइफ कॉरिडोर बनाया जाएगा। आइए जानते हैं इस विशिष्ट सड़क परियोजना से जुड़ी अन्य जानकारी।

भारत में एशिया का सबसे लंबा वन क्षेत्र बनने जा रहा है

6 लेन रोड सिंगर पिलर पर बनेगी

दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे पर बन रहे एशिया के सबसे बड़े वाइल्ड लाइफ कॉरिडोर में जानवरों की मुक्त आवाजाही होगी, जो 12 किलोमीटर से अधिक होगा और राजाजी नेशनल पार्क से सटा होगा। यह वन जीवन कॉरिडोर एक पिलर पर छह लेन का होगा।

इसके लिए एकल पिलर प्रणाली का उपयोग किया जा रहा है, जिससे जंगल में कंक्रीट का प्रयोग कम होगा। इस कॉरिडोर में बनने वाले 571 पिलर में से 450 पूरे हो चुके हैं। 21 मीटर पिलर से दूर है।

पशुमार्ग बनेंगे

दातकाली मंदिर से शुरू होकर मोहंड तक एशिया का सबसे लंबा वाइल्ड लाइफ कॉरिडोर बनेगा। इस कॉरिडोर को NHAI Wildlife Institute of India ने सुझाया है।

देहरादून के दत्त काली मंदिर के पास 340 मीटर लंबी सुरंग वन्यजीवों पर वाहनों की आवाजाही का असर कम करेगी। वहीं, गणेशपुर-देहरादून खंड में पशु-वाहन दुर्घटनाओं को कम करने के लिए पशु मार्ग भी बनाए गए हैं।

शिवालिक फारेस् ट डिवीजन उत्तर प्रदेश और देहरादून फारेस् ट डिवीजन उत्तराखंड के निकट होंगे। NHAI Wildlife Institute of India के सुझाव पर कॉरिडोर बनाया जा रहा है। इस कॉरिडोर पर दो 200 मीटर लंबे एलीफैन् ट अंडरपास भी बन रहे हैं। वहीं जानवरों के लिए छह अंडरपास बनाए जा रहे हैं।

ध्यान दें कि दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे का दूरी 210 किलोमीटर होगी, जिसका अधिकांश भाग उत्तर प्रदेश में होगा। यह दिल्ली से बारह लेन की राजमार्ग होगी। यद्यपि, इस मार्ग पर आगे बढ़ते हुए सड़क को सिक्स लेन बनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें 

Motorola Edge 40 Pro नया स्मार्टफोन गेमिंग क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 8 जेन 2 प्रोसेसर के साथ

Mahindra Bolero Neo SUV भारतीय बाजार में मात्र 10.69 लाख रुपये की शुरुआती कीमत के साथ

Leave a Comment

कोंसी टीम पाहुची आईपीएल 2024 फाइनल में जाने धोनी ने इंतजार किया लेकिन कोहली की टीम नहीं आई, तो थाला ने ये निर्णय लिया Railway Painter Vacancy: रेलवे में 8वीं पास पेंटर के पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी क्या भारत में बंद होगा WhatsApp? दिल्ली हाईकोर्ट में कंपनी ने दी चेतावनी औजार पर नारियल तेल लगाने के फायदे