Fish Farming: किसानों को मछली पालन से मिलेगा कम खर्च में अधिक लाभ, मार्केट में अधिक डिमांड

Fish Farming: किसानों को मछली पालन से मिलेगा कम खर्च में अधिक लाभ, मार्केट में अधिक डिमांड

किसानों को इस प्रजाति की मछली पालन (Catla Fish Farming) से मिलेगा कम खर्च में अधिक लाभ जानें पूरी जानकारी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

हमारे देश में किस पशुपालन के साथ अब मछली पालन का कार्य भी काफी बड़ी मात्रा में बढ़ रहा है क्योंकि मछली के डिमांड अच्छी है। और इसके साथ मछली पालन करने के लिए अलग अलग राज्यों की सरकारों के द्वारा के द्वारा सब्सिडी भी समय-समय पर दिया जा रहा है। मछली पालन के लिए तालाब निर्माण करवाना होता है उसके लिए किस तालाब निर्माण तो करवा लेते हैं और सब्सिडी भी मिल जाती है।

 

लेकिन किसानों के मन में यह सबसे बड़ी दुविधा होती है कि अब कौन सी प्रजाति क्या मछली का पालन हमें करना चाहिए जिससे हमें अधिक लाभ प्राप्त हो और खर्च भी काम हो और समय भी कम लगे। मछली पालन में कौन सी प्रजाति कि आप मछली का पालन कर सकते हैं उसके बारे में आज इस आर्टिकल के द्वारा हम आपको जानकारी प्रदान करेंगे तो आप अंत तक जरूर जुड़े रहें।

 

अगर आप मछली पालन का कार्य कर रहे हैं या अगर आप मछली पालन कार्य के बारे में सोच रहे हैं तो आपको हम कतला मछली के बारे में बताएंगे। बता दें कि कतला मछली नॉन वेजिटेरियन लोगों के बीच काफी लोकप्रिय मानी जाती है और इस Catla Fish Farming मछली का स्वाद भी खाने में बहुत अच्छा माना गया है बता दें कि कतला मछली के बारे में वजन काफी तेजी के साथ बढ़ता है।

 

कतला मछली पालन कहा पर सबसे अधिक होता है। (Catla Fish Farming)

भारत के कई राज्यों में कतला मछली को भाकुरा नाम से भी पुकारा जाता है। और यह Catla Fish Farming मछली बांग्लादेश के किसानों के द्वारा अधिक पालन किया जाता है। किसान इस मछली का पालन करना चाहते हैं। तो इस गहरे टैंक या तालाब में आसानी से भी पालन किया जा सकता है। और इसमें प्रोटीन की मात्रा ज्यादा में पाया जाता है। मिली जानकारी के अनुसार 1 वर्ष में इसका वजन डेढ़ किलोग्राम से भी अधिक का हो जाता है। वैसे आपकी जानकार के लिए बता दें कि कितना मछली धान की खेतों में प्राकृतिक रूप से भी मिलता है।

 

कतला मछली की डिमांड और रहन सहन

Catla Fish Farming: बता दे कि इस मछली को किसानों के द्वारा अपने घर में भी आसानी से पाला जा सकता है वहीं इसके रखरखाव की बात करें तो किसानों को इस मछली में मीठा पानी वैसा पानी होना चाहिए। इस मछली के वजन की बात करें तो करीब 6 से 9 महीना में ही यह मछली बाजार में बिकने के लिए तैयार हो जाता है और इसकी स्वाद अच्छा होने के कारण मार्केट में डिमांड भी अच्छी रहती है।

कतला मछली में तापमान कितना अच्छा रहता है

इस मछली के लिए तापमान 24 से 31 डिग्री सेल्सियस के आसपास तक अच्छा माना गया है। बता दें कि इस मछली के बीच मार्केट में आसानी से ही उपलब्ध हो जाते हैं।

 

किसान इस Catla Fish Farming मछली पालन के लिए खाने के रूप में वही सामग्री डालनी चाहिए जो पानी में ऊपर तेरे क्योंकि यह मछली पानी के ऊपर आकर ही कीड़े मकोड़े आदि को खा सकती है। इसलिए जो पानी में डूबे हुए अनाज ना डालें तो बेहतर रहता है।

 

कतला मछली से कितना मिलेगा लाभ

बता दें कि कतला मछली Catla Fish Farming की मार्केट में कीमत 145 से 165 रुपए किलो तक मिल रहा है ऐसे में किसान इस मछली का पालन करते हैं तो 400 से 500 ग्राम होने के बाद तालाब या टैम में जाली लगाकर इसे बाजार में बिकने के भेज सकते हैं। और अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

नोट: कतला मछली पालन Catla Fish Farming के बारे में अगर आप भी सोच रहे हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। दी गई जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है। बता दें कि इस मछली पालन के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप अपने नजदीकी कृषि विभाग कि विशेषज्ञों से भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढे – 

Bansi Gold Moong Seed: मूंग की फसल इस किस्म में किसानों को मिलेगा प्रति एकड़ 14 क्विटल की पैदावार, जानें बुवाई कब, बीज कितना डालें

 

Mustard Chepa Kit: सरसों की फसल में लगने वाले चेपा किट की पहचान और कैसे करें रोकथाम

 

गेहूं की फसल में बालियां बनते समय ये टिप्स अपनाएं, ताकि दाना बड़ा, चमकदार और अधिक हो।

 

Narma Ka Bhav Today: नरमा कपास रेट जानें 13 जनवरी 2024 सभी मंडी

Leave a Comment

कोंसी टीम पाहुची आईपीएल 2024 फाइनल में जाने धोनी ने इंतजार किया लेकिन कोहली की टीम नहीं आई, तो थाला ने ये निर्णय लिया Railway Painter Vacancy: रेलवे में 8वीं पास पेंटर के पदों पर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी क्या भारत में बंद होगा WhatsApp? दिल्ली हाईकोर्ट में कंपनी ने दी चेतावनी औजार पर नारियल तेल लगाने के फायदे